हमारे बापू


हमारे बापू

मनसा वाचा कर्मणा से होते हैं जो एक समान वही कहलाते हैं महान |

गान्धी जी की तो कथनी- करनी भी थी एक समान ,

उनके कर्मो की भी गति थी महान |

दो अक्तूबर का दिन भारत का गौरव है और तिरंगे की है शान|

इस दिन ऐसे युग पुरुष का ,साबरमती के संत का हुआ अवतरण  

जिसने रघुपति राघव राजा राम कहते - कहते दुनिया की सोच को दिया बदल |

पहनते थे खादी पर इरादे इनके फोलादी थे |

रुई  से सूत बनाते थे चरखा नित्य चलाते थे |

अपनाओ स्वदेशी सबको यही सिखलाते थे | 

मानवता के अधिकारों की बात जिसने शांति से कह डाली ,

उनके आगे तो गोरों ने भी हिम्मत भी हार डाली |

सत्य - अहिंसा के पथ पर चल कर आजादी की जिसने मांग रखी थी |

नमक और भारत छोडो आन्दोलन करके अग्रेजो की जडे हिला डाली थी |

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन का जन-जन को ज्ञान करवाया |

मानव में ही ईश्वर बसता है इसका बापू ने ही बोध करवाया |

जाति धर्म से ऊपर उठकर जिसने जीना हमें सिखाया |

कच्ची मिट्टी के ढेरो को सुन्दर घड़ा बनाया  |

धर्म -सत्य और अहिंसा को ही अपना हथियार बनाना |

 परिश्रम लगन है सच्चा गहना बापू का था कहना |

सच्चे कर्मवीर और धर्म निरपेक्ष के थे उपासक|

सच्चे राष्ट्र भक्त और सन्मार्ग के प्रचारक |

सदा ऋणी रहेंगे हम बापू के जिसने 

निस्वार्थ भाव से निज सर्वस्व कर समर्पित देश को भारत की बनें पहचान |

आँखो पर चश्मा होठों पर मुस्कान दिल में था जिसके हिन्दुस्तान | 

ऐसे  भारत माँ के वीर सपूत को हम कभी भुला न पाऐगे|

सादा जीवन उच्च विचार को अपना ध्येय बनाएगें |

ईश्वर अल्लाह तेरे नाम सबको सन्मति दे भगवान|

ऐसे राष्ट्रपिता पर आज हम करते हैं अभिमान |


















मीनू सरदाना
शेरवुड  कान्वेंट स्कूल  गुरुग्राम





About Gouri

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Please donot push any spam here.